Friday, 20 December 2013

वाजपेयी की विरासत के निर्विवाद उत्तराधिकारी

वाराणसी में आज हुई नरेन्द्र मोदी की ऐतिहासिक रैली में उमड़े अभूतपूर्व जनसागर के समक्ष नरेन्द्र मोदी के 46 मिनट लम्बे भाषण तथा उन्हें मिले अथाह अपार समर्थन ने यह सुखद सकारात्मक संदेश दिया कि देश की जनता उनसे गंभीर राष्ट्रीय मुद्दों पर उनके गंभीर विचार अत्यंत गंभीरता से सुनना चाह रही है. आज की रैली में नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व विचार व वाणी की त्रिवेणी में प्रचुर गंभीरता गहनता व सरसता का संगम दिखा, पिछले कुछ दिनों के दौरान संपन्न हुई रैलियों में उपरोक्त त्रिवेणी व संगम अपनी राह से भटकते प्रतीत हुए थे.
वाराणसी की आज की रैली ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि बाबा विश्वनाथ व बाबा संकटमोचन हनुमान ने काशी पहुंचे अपने भक्त ''नमो'' को राष्ट्ररक्षा का वरदान अत्यंत प्रसन्न मन से प्रदान कर दिया है. वाराणसी की आज की इसी रैली ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि सरलता सरसता व सहजता के साथ गंभीर मुद्दों पर गंभीर चर्चा में अपने चुटीले संवादों का अदभुत सामंजस्य स्थापित कर सकने की अपनी विलक्षण क्षमता के फलस्वरूप निर्विवाद रूप से देश के राजनीतिक इतिहास के अबतक के सर्वश्रेष्ठ वक्ता माने जाने वाले श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी की उपरोक्त विरासत के निर्विवाद उत्तराधिकारी नरेन्द्र मोदी बन चुके हैं

No comments:

Post a Comment